सर्वतीर्थमयी मुक्तिदायिनी गोमाता

सर्वतीर्थमयी मुक्तिदायिनी गोमाता सर्वे देवा गवामंगे तीर्थानि तत्पदेषु च, तद्गुह्येषु स्वयं लक्ष्मिस्तिष्ठत्येव सदा पितः. गोष्पदाक्तमृदा यो हि तिलकं कुरुते नर:, तिर्थस्नातो भवेत् सद्यो जयस्तस्य पदे पदे. गावस्तिष्ठान्ति यत्रैव तत्तिर्थं परिकीर्तितं, प्राणास्त्यक्त्वा...

गोसंरक्षण

1 -गौ -संरक्षण पूज्य बापूजी के कथनानुसार गोमाता को हम नहीं पालते गोमाता हमें पालती है. इसी बात को चरितार्थ करते हुए गौशालाओं को स्वावलंबी बनाने हेतु पंचगव्य उत्पादों, केचुआ खाद निर्माण व गोबर गैस संयंत्र द्वारा विद्युत निर्माण आदि कार्यक्रम प्रारंभ किये...