गोबर गैस प्लांट लगाने की पूरी जानकारी, पढ़िए इसकी उपयोगिता

अगर किसान गोबर का उपयोग खाद के रूप में करता है, तो मिट्टी की उर्वरक शक्ति काफ़ी कम होने लगती है, जिससे संतुलित पोषक पदार्थ नहीं मिलते हैं, तो वहीं रासायनिक खादों का उपयोग करे, तो पर्यावरण दूषित होता है. इनके उपयोग में लागत भी अधिक लगती है. किसानों की इन सभी समस्याओं का समाधान गोबर का दोहरा उपयोग करके हो सकता है.
गोबर गैस प्लांट लगाने के लिए ज़रूरी बातें:

  • इसके लिए कम से कम दो या तीन पशु हमेशा होने चाहिए.
  • रोज़ाना गोबर की प्राप्त होने वाली मात्रा को ध्यान में रखकर प्लांट का आकार बनाएं.
  • इसकी छत से किसी प्रकार की लीकेज नहीं होनी चाहिए.
  • इस प्लांट को प्रशिक्षित व्यक्ति की देखरेख में बनवाना चाहिए.